Monday, May 20, 2019

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक कैसे बढ़ाए ?- Techtox

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक कैसे बढ़ाए ?


Hello  Friends  , आज में आपलोगो को  इस पोस्ट में  SEO  कैसे करेंगे  और  इसकी  ट्रैफिक  कैसे बढ़ाएंगे   , पूरी  जानकारी आपलोगो तक पहुंचाने  की  कोशिश करूंगा , आशा है आपलोगो को यह Article  पसंद आएगा, तो चलिए  हमलोग आगे चलते है और SEO  के बारे में  थोड़ी चर्चा करते है।  
SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक कैसे बढ़ाए ?- Techtox
SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक कैसे बढ़ाए ?- Techtox


                                            एक  Newbie  Blogger  जो नया - नया beginning  कर रहे है वो ये जरूर जानना चाहेंगे के SEO कैसे करें  या फिर अपने ब्लॉग को  SEO  FRIENDLY  कैसे बनाये।  इस  चीज को में Daily  देख  रहा हु की ये लोग इसी चीज के पीछे ज्यादा  भाग रहे है। 


            यह चीज मैने  देखा की जब भी हमें कुछ चीज के बारे में जानना होता है या जानकारी चाहिए होती है  तब हम GOOGLE का इस्तमाल करते है उस  बिषय के बारे में जानने के लिए।  वही Search  करने पर हमे लाखो के मात्रा में Results  देखे परते  है  लकिन उनमे से जो सबसे बेहतर होता है वो ही  SEARCH  ENGINE  के पहले  स्थान  पाते है , क्या आप ने सोचा है की ये कैसे होता है। 

अब सवाल उठता है की GOOGLE  या कोई दुसरा  SEARCH  ENGINE  को कैसे पता चलता है की इस Contant  में उचित जवाब है जिशसे की इसे सबसे पहले में रखना चाहिए, बस यही पर ही SEO  का Concept  आता है।  यही SEO  ( Search  Engine  Optimization  ) ही है जो की आपके साइट के pages  को Google  में Rank  करवाता है। 

यदि ऐसी  बात है तब हम Seo  कैसे करें  ?  इसका मतलब की SEO  को कैसे किया जाता है जिससे की हम अपने BLOG  के अर्टिकल्स  को GOOGLE  में RANK  करवा सके। 



यदि आपके मन में बभी SEO  क्या है और SEO  कैसे करे से सम्बंधित  कुछ भी सवाल है तब आज का यह Article  आपके लिए काफी जानकारी भरा होने वाला है। इसलिए हमारे साथ अंत तक बने रहे और सो के बिषय  में पूरी जानकारी प्राप्त करे. तो फिर बिना देरी किये आगे बढ़ते है।  

SEO  क्या है  ? 

SEO  का  Full  Form  होता है  Search   Engine   Optimization  .  यह एक  ऐसी प्रक्रिया है जिसका इस्तमाल कर आप अपने blog  का articles  का rank  search  engine  में  improve  करा सकते है। 

Google  अपने Search  Results  में उन Links  को Display  करता हैउ जिन्हें  को वो Consider  करता है अच्छे Content  वाले  को ही उनमे ज्यादा Authority  मिलती है बाकी की तुलना में। 

Authority  का मतलब है की उस टॉप Page  के  लिंक से कितने और पेजेज जुड़े है जितनी ज्यादा Pages  उशसे जुडी होगी उतनी ज्यादा  उस Page  की Authority  होगी। 

SEO  का मुख्य  काम  ही होती है किसी भी ब्रांड की Visibility  को बढ़ाये Organic  Search  Results  में।  इश्से आसानी से वो Brand  को एक अच्छा Exposure  प्राप्त होता है।  साथ में Article  SERPs  में ऊपर रैंक होता। जिससे ज्यादा विसिटोर्स उनके और आते है जिशसे ज्यादा Conversions  होने के chances    बढ़ जाते है। 



Search  Engine  ये कैसे पता करते है की किस पेज को rank  किया जाये  ?

Search  Engine  का बस एक ही उदेश्य  होता है , उनका उदेश्य  है users  को उनके सवाल का सबसे बेहतर जवाब देना। 

जब भी आप उन्हें इस्तमाल करते है ,उनकी Algorithms  वही Pages का  चुनाव  करते है जो की आपके सवाल के ज़्यादा रिलेवेंट हो।  और फिर भी उसे रैंक करते है , बाद में उन्हें  Top  के  Pages  में display  किया जाता है। 

Users  के लिए सही  Information का चुनाव करने ,  Search  engines  मुख रूप से दो चीजो को ज़्यादा analyze  करते है। 


ये दो चीजे है ,

पहला है SEARCH  QUERY  और पेज की  CONTENT  के बीच  क्या Relevancy  है। 
वही दूसरा है PAGE  की  AUTHORITY  कितनी है।  

Relevancy  के लिए Measure  किया जाता है website  के popularity  के हिसाब से ,Google  ये अनुमान  करता है की जितना ज़्यादा कोई Page  या  Resource  होगा Internet  पर तब उसमे उतने ही ज़्यादा अच्छे Content  भी होंगे Readers  के लिए। 



वही  ये सभी चीजों को Analyze  करने के लिए ये Search  Engine  Complex  Equations  का इस्तमाल करते है जिन्हे की Search  Algorithms  कहा जाता है। 


Search   Engines  हमेशा चाहते है की उनके Algorithms  को वो Secret  ही रखे , लकिन समय के साथ -साथ SEOs  ने कुछ ऐसे ही Ranking  Factors  के बिषय  में जान लिया है जिससे की आप किसी पेज को सर्च  इंजन में rank  करा सके। 

इन्ही Tips  को SEO  Strategy  जाता है ,जिनका इस्तमाल कर आप अपने आर्टिकल को रैंक करा सकते है। 

SEO  कैसे करें  ?


यदि आपको ये सीखना है की SEO  कैसे करे तब इससे पहले आपको SEO  के अलग अलग प्रकार के बारे में जानना होगा ,कही तब जाकर आप उन्हें सही ढंग से करने में सक्षम बन सकते है। 

SEO  कितने प्रकार के होते है ?

वैसे SEO  के बहुत सारे प्रकार है , लकिन उनमे से भी मुख रूप से तीन प्रकार को ज़्यादा  Importance  दिया जाता है। 



  1. On  Page  SEO 
  2. Off  Page  SEO 
  3. Technical  SEO 


On - Page  optimization 
 
 इस प्रकार के optimization  में page  के ऊपर ज़्यादा ध्यान दिया जाता है ,ये optimization  करना पूरी तरह से हमारे Control  में होता है ,इसके अंतर्गत कुछ चीजें  आती है जैसे की  A )  High Quality Keyword -Rich  Content  को तैयार करना  B ) साथ ही HTML को Oprimized करना , जिसके अंतर्गत Title  Tags , Meta  Descriptions  और Subheads  इत्यादि आते है। 


 Off -Page  Optimization 

इस प्रकार का optimization  page  के बहार  जाता है , इसके अंतर्गत कुछ चीजे आती है जैसे की back -links  , page  , ranks  bounce  rates  इत्यादि।  

Technical  SEO 

ये उन Factors  को  कहा जाता है जो की आपके वेबसाइट के elements  से जुड़े हुए होते है , On -Page  Factor  के अंतर्गत technical  setup   - आपके कोड की quality -textual  और visual  content  ,साथ ही  आपके site  की user -friendliness  भी शामिल है। 


हमें ये समझना चाहिए की on -page  techniques  जिन्हे की website  में implement  किया जाता हैं  website  की  performance  और visibility  को बढ़ाने  लिए। 

चलिए अब कुछ ऐसे ही  on -page  techniques  के बारे में जानते है :-

1) META DESCRIPTION   : ये आपकी Website  को define  करने में मदद करती है। Website  के  प्रत्येक  Page  को एक  Unique Meta Descriptions होनी चाहिए ,जो की sitelinks  की मदद करता है उन्हें  automatically  SERPs  में show  करने के लिए। 


2) META  TITLE : ये आपकी Website  को Describe  करता है Primary  Keywords  की मदद से और ये  50-60 Characters  के  बीच  ही होनी चाहिए ,क्योकि इससे ज़्यादा हुए तब ये Google  Search  में hide  हो सकते है। 

3) IMAGE  Alt  Tags : प्रत्येक Website में Image  तो होते ही है लकिन google  इन्हे समझ नहीं पता है इशलिये image  के साथ हमे एक  alternative  text  भी प्रदान करना चाहिए जिससे की Search  Engine  भी इन्हे आसानी से समझ सके। 

4) Header  Tags  : ये बहुत जरुरी होता है ,साथ में पुरे page  को सही ढंग से categorize  करने के लिए  इनका बड़ा योगदान होता है।   H1 ,H2  इत्यादि। 

5) Sitemap : Sitemap  का इस्तमाल Website  Pages  में crawl  कराने  के लिए होता है  जिससे की गूगल Spider  आसानी से आपके Pages  को Crawl  कर  उन्हें index  कर सकें।  बहुत से अलग -अलग  sitemaps  होते है जैसे की  Sitemap.xml ,Sitemap.html, ror.xml , news sitemap, videos sitemap, image sitemap , urllist.txt इत्यादि। 

6) Robots.txt : ये बहुत ही जरुरी होता है आपके website  को Google  में index  करने के लिए जिन Website  में  robot.txt होती है वो जल्द ही इंडेक्स हो जाता है। 


7) Internal  Linking  : Interlinking   बहुत  बहुत ही जरुरी होती है website  में आसानी से navigate  करने के लिए  pages  के बीच। 

8) Ancher  text  : आपकी  ancher  text  और url  दोनों  दूसरे  के साथ match  होने चाहिए , इससे rank  करने में आसानी होती है। 

9) Url  Structure  : आपके Website  की Url  Structure  ठीक होनी चाहिए , साथ में ये  seo - friendly   भी होनी  चाहिए  जिससे की इन्हे  easily  rank  कराया जा सके। साथ में प्रत्येक  url  में एक targeted  keyword  होनी चाहिए ,इसका मतलब की आपकी आपके url  के साथ match  करनी चाहिए। 

10) Mobile - Friendly  : कोशिश  करे अपने website  को Mobile - Friendly  बनाने के लिए क्योंकी  आजकल प्रत्येक  लोग Mobile  का इस्तमाल करते है ,Internet  इस्तमाल करने के लिए। 

 OFF-Page SEO कैसे करें ?

वही दूसरी और आती है  off-SEO Factors, जैसे की दूसरे website  से links  ,social  media  की attention  और दूसरे marketing  activities   जो की  आपके websites  से अलग हो , इससे आप quality  backlinks   उपाय ज़्यादा देना होता है ,जिससे की आप अपने website  के authority  को बढ़ा सके। 

 यहां समझना होगा की off - page  का मतलब केवल लिंक building  नहीं करेंगे हमेशा आपको website  को crawl  करने  के लिए के लिए fresh  content  के लिए ,साथ में आपके content  meaningful  भी होना चाहिए जिससे की ये आपके target  audience  को सही value  प्रदान कर सके। 

Content 

यदि आपके website में ज़्यादा fresh  content  होंगे तब ये Google  को ज़्यादा allow  करेगा ,हमेशा आपके website  को crawl  करने के लिए fresh  content  के लिए ,  आपके कंटें meaningful  भी  audience  को सही value  प्रदान कर सके। 

Keyword 

सही keyword  का चयन बहुत  होता है SERPs  में rank  करने ,  इसके आपके   इन keyword  को content  के साथoptimize  करना चाहिए जिससे की keyword  stuffing  का खतरा ना  हो और आपके article  सभी rank  हो जायेगा। 


Long -tail 

जब बात keyword  की आती है तब हम long  tail  keyword   ज़्यादा similer   होते  है। इसलिए अगर आप इन LSI  Keyword  का इस्तमाल करेंगे तब viwers  आसानी से आपके content  तक पहुंच सकते है जब  वो कोई  particular  keyword  को search  कर रहे हो तब। 

Brokenlinks 

इन links  को यथा संभव निकल  फेंकना  चाहिए , अन्यथा ये एक ख़राब impression  प्रदान  करता है। 

Guest  Blogging 

यह एक बहुत ही  बढ़िया तरीका है do -follow  backlinks  बनाने का।  इससे दोनों ही ब्लोग्गेर्स को फयदा प्राप्त होता है। 

Inforgraphics 

इससे आप अपने   website  को अपने content  visually  show कर सकते है जिससे उन्हें ज़्यादा समझ में आता है।साथ में वो इन्हे share भी  कर सकते है। 


Conclusion 

To me ummid hai ki aapko meri Article SEO कैसे करे  Jarur pasand aai hogi . Mera hamesha se yahi koshish rehti hai Readers ko SEO ke Bishay me puri jaankari pradan ki jaaye jishse unhe kisi dushre sites ya internet me us article ke sandarv me khojna ki jarurat hi nahi hai .


ishse unki samay ki bachat bhi hogi aur ek place me unhe sabhi information bhi mil jayega.yadi aapke mann me ish article ko leker koi bhi doubts hai ya aap chahate hai ki ishme kuch sudhar honi chahiye tab ishke liye aap nicche comments likh sakte hai .

yadi aapko yeh post SEO कैसे करे hindi me pasand aaya ya kuch sikhne ko mila tab please ish post ko social networks jese facebook , google+ aur twitter ityadi par share kijye .

READ ALSO:

eCommerce Website फ्री में कैसे बनाए  in Blogger ? Full Details in Hindi.

No comments:

Post a Comment

Featured Post

Does Artificial Intelligence Mean SEO is Dead?

Does Artificial Intelligence Mean SEO is Dead? SEO is currently changing and shifting thanks to things like Artificial Intelligen...